About Us

यह शिक्षा के वैश्वीकरण का समय है। भारतीय सरकार भी पश्चिमी देशों के पैटर्न पर शिक्षा का निजीकरण करने या गैर सरकारी संगठन को बढ़ावा देने के लिए प्रोत्साहित करती है ताकि नौकरी उन्मुख पाठ्यक्रम और प्रशिक्षण प्रदान करने वाले अस्पताल की आवश्यकता को पूरा किया जा सके। इस प्रकार, भारत की पैरा मेडिकल काउंसिल ने अस्पतालों, पैथोलॉजिकल और डायग्नोस्टिक लैब्स, नर्सिंग होम इत्यादि के पैरामेडिकल तकनीशियनों की बढ़ती मांग को पूरा करने का फैसला किया।महात्मा गाँधी शिक्षा परिषद् का उद्देश्य आधुनिक और किफायती शिक्षा प्रदान करके अंतराल पर आना है।

ये डिप्लोमा / प्रमाणपत्र नौकरी उन्मुख और स्वयं रोजगार पाठ्यक्रम हैं और निजी, कॉर्पोरेट, बहुराष्ट्रीय कंपनियों के क्षेत्र या भारत / विदेशों में सरकारी / अर्ध-सरकारी क्षेत्र में सभी प्रकार के नौकरी के लिए पात्र हैं। लेकिन भारत की पैरा मेडिकल काउंसिल और उसके संबद्ध संस्थान नौकरी के लिए किसी भी प्रकार की गारंटी नहीं देते हैं। डिप्लोमा के बाद उम्मीदवार संबंधित क्षेत्र में समय-समय पर प्रचलित नियमों और विनियमों के लिए कुशल चिकित्सा विशेषज्ञ के तहत देश के किसी भी हिस्से में अपने स्वयं के केंद्र खोल सकते हैं।

"हम चरक पैरामेडिकल काउंसिल की प्रगति से बहुत खुश हैं, जो छात्रों के मूल्य आधारित शिक्षा में आधुनिक शिक्षण-शिक्षण विधियों के साथ मिलकर अच्छी तरह से सूचित और भावनात्मक रूप से ध्वनि उत्पादन की पीढ़ी पैदा करने के लिए प्रतिबद्ध है। मैं बहुत सकारात्मक हूं कि आने वाले समय में हम इस उत्साह को उत्साहित उत्साह के साथ जारी रखेंगे और युवाओं की युवा पीढ़ी को समग्र शिक्षा का एक मंच प्रदान करेंगे।

हम अपने छात्रों के शैक्षणिक अनुभव को समय-समय पर सामाजिक-आर्थिक जरूरतों के लिए सार्थक और प्रासंगिक बनाने के लिए कोई प्रयास नहीं करते हैं और समाज को आगे बढ़ने के लिए भविष्य की चुनौतियों का सामना करने के लिए अपने युवाओं को लैस करने के लिए प्रयास करते हैं, जबकि यह सुनिश्चित करना समय वे सीखने के अपने अनुभव का आनंद ले रहे हैं। हमारा मुख्य उद्देश्य चिकित्सा क्षेत्रों में प्रगति के लिए ग्रामीण क्षेत्रों की प्रतिभाओं को खोजना है।"

Main Objectives

 

Mahatma Gandhi Shiksha Parishad Uttar Pradesh is a non commercial voluntary social educational institution with the aims of expansion and promotion of education, publication of scare, unique and newly written literature, pay honour and due promotion to the educationists.

These may be enumerated as below:

To Democratise higher education by providing it to the students at their door step.

To provide higher education to one and all, irrespective of age/sex/caste/ territory.

To provide job-oriented and professional education.

To promote and popularise education under Open & Distance Education system on the pattern of other countries.

The option to select choice subjects and imbibe more education at lesser cost.

 

Viewed at from the fulfillment of provisions of the articles 14, 19(1), 21, 29, 30, 45, 46 344 & 351 of the Indian Constitution 1950, MGSP, U.P. is a matter of appreciation. The concept of Distance Education originated from Berlin ( Germany ) in 1856. Afterwards, Russia granted recognition to distance education in the world. In this manner the idea of Open Universities was conceived by the British Prime Minister Mr. Harold Wilson in the year 1863 to provide an opportunity to persons who were otherwise denied opportunities to further their education and make their life successful. In 1969 under the Royal Charter an Open University was established the success of which was more far reaching than the traditional Universities. Under the new Education Policy 1986, the Government of India laid particular stress on Open Universities and Distance Education. MGSP, U.P. is getting necessary direction and full co-operation from educationists, professors and social workers of the country. It is their unanimous opinion that Parishad has given practical shape to the concept of British Prime Minister Harold Wilson by providing Open and Distance Education to the under privileged sections of students and encouraged democracy to take deeper education to the country. Under Human Rights Protection Act, 1993, autonomous bodies like the Parishad have been given special protection. For further details please see AIR 1993 SC 217B.

 

279693

OUR VISIOTRS

755

OUR COURSES

1248

STUDENTS ENROLLED

100

PERCENT CERTIFIED STUDENTS

Our Testimonial